अब से साल में 2 बार होगा सिम कार्ड वेरिफिकेशन, नए नियम लागु

देश में सिम कार्ड वेरिफिकेशन को लेकर नए कानून बनाये हैं जिससे देश में चल रहे सभी FAKE कॉल, स्पेम कॉल, फ्रॉड वेरिफिकेशन, जैसे होने वाले गुनाहों को रोकने के लिए भारत सरकार ने कानून निकाला है की अब से जो भी नई सिम खरीदी जाएगी उस सिन और कस्टमर का हर 6 महीने में वेरिफिकेशनव् किया जाएगा

कंपनियों के नाम पर सिम कार्ड का फ्रॉड बढ़ने की वजह से यह फैसला लिया गया है. Corporate Affairs मंत्रालय से कंपनी के रजिस्ट्रेशन की जांच करनी होगी.जिसके दौरान ग्राहक की लोकेशन, ग्राहक की ID , किस दूकानदार से सिम ख़रीदा है इस तरह के सारे वेरिफिकेशन हर 6 महीने में किये जाएंगे

हर 6 महीने में कंपनी की लोकेशन का वेरिफिकेशन करना होगा. कंपनी की वेरिफिकेशन के समय लोंगिट्यूड लाटीट्यूड आवेदन फॉर्म में डालना पड़ेगा. कंपनी ने कनेक्शन किस कर्मचारी को दिया है इसकी जानकारी भी देनी होगी. नए नियम लागू करने के लिए टेलीकॉम कंपनियों को 3 महीने का वक्त मिलेगा.

दूरसंचार विभाग ने ग्राहक वेरिफिकेशन के नियम आसान कर दिए थे. विभाग ने पेनल्टी के नियमों में ढील दी है. अब सिर्फ चुनिंदा मामलों में ही 1 लाख रुपये की पेनल्टी लगेगी. पहले कंपनी को ग्राहक आवेदन फॉर्म में हर एक गलती पर 1000 से 50000 रुपए की पेनल्टी देनी होती थी.

Leave a Comment