अब Google Meet चलाने के लिए 1,800 रुपये का भुगतान करना होगा

इस Lockdown में सभी स्कूल और ऑफिस द्वारा सभी लोगों की मिटिन ऑनलाइन वीडियो ग्रुप कालिंग के द्वारा हुई है यह तक की बच्चों को भी घर से ही ऑनलाइन वीडियो कालिंग पर ही पढ़ाई की जा रही है इस सब के चलते बहुत से वीडियो कालिंग ऐप्स बहुत मशहूर भी हो गए हैं लेकिन कुछ ऐप्स भारत में ही मशहूर हुए हैं

लेकिन गूगल Meet भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मशहूर हो चूका है इसके चलते गूगल Meet ने अपने सभी यूजर्स को एक बड़ा झटका दिया है गूगल अब उन सभी लोगों से पैसे लेगा जो गूगल Meet को इस्तेमाल करेगा लेकिन ये अभी तक फ्री है लेकिन कुछ समय बाद ऐसा होने लगेगा

गूगल ने अपने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग एप को लेकर बड़ी घोषणा की है। गूगल ने कहा है Google Meet का फ्री वर्जन अब बंद होगा। 30 सितंबर 2020 के बाद गूगल मीट को मुफ्त में सिर्फ 60 मिनट तक ही इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसके बाद की सेवा के लिए पैसे देने होंगे। 30 सितंबर के बाद Google Meet की नई पॉलिसी जीसूट और जीसूट एजुकेशन दोनों पर लागू होगा।

बता दें कि जीसूट के तहत 250 लोग एक साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर सकते हैं, जबकि एक लाख लोग लाइव देख सकते हैं। इसके अलावा मीटिंग को रिकॉर्ड करके गूगल ड्राइव में सेव भी किया जा सकता है। वहीं नए अपडेट के बाद इन फीचर्स के इस्तेमाल के लिए आपको पैसे देने होंगे। इंटरप्राइजेज ग्राहकों को प्रत्येक महीने 25 डॉलर यानी करीब 1,800 रुपये का भुगतान करना होगा।

गौरतलब है कि संक्रमण फैलने के बाद पूरी दुनिया में वीडियो कॉलिंग एप और वेबसाइट की मांग बढ़ गई है। शुरुआत में जूम एप को लोगों ने खूब इस्तेमाल किया जिसके बाद बाजार को देखते हुए गूगल ने भी अपने वीडियो कॉलिंग एप गूगल मीट (Google Meet) को लेकर कई सारे अपडेट जारी किए।  पहले गूगल मीट का इस्तेमाल सिर्फ जीसूट यूजर्स ही कर सकते थे

लेकिन बाद में इसे सभी के लिए उपलब्ध है। गूगल मीट की डाउनलोडिंग महज 50 दिन में दोगुनी हुई थी। एप ट्रैफिक को ट्रैक करने वाली साइट एपब्रेन (AppBrain) ने बताया था कि 17 मई 2020 तक गूगल मीट के डाउनलोड्स पांच करोड़ थे जो कि सात जुलाई तक 10 करोड़ के आंकड़े को पार कर गए। बता दें कि गूगल मीट फिलहाल सभी यूजर्स के लिए फ्री है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *